Thursday, 13 February 2014

बहुत
दिल चाहता है
तुझसे
टूट कर मिलूं

पर ये
वक़्त का ज़हर
मुझे
मुझ-सा
होने नहीं देता……

4 comments:

  1. बेहद उम्दा रचना अनुपम भाव संयोजन के साथ ....बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजय जी ......

      Delete
  2. मुझे मुझ सा होना भी एक नए जन्म की तरह ही है .

    ReplyDelete
  3. यक़ीनन सर .....

    ReplyDelete